0

Kuch to andar se toot raha hai

जीने की चाह में, जीवन छूट रहा है
कुछ तो हैं, जो अंदर से टूट रहा हैं
हसरते कब उठी, कब शांत हो गयी
ज़िन्दगी गुल से, कब बेजान हो गयी
ऐसा नहीं की, खिलने की चाह नहीं, पर
कुछ तो है जो अंदर से टूट रहा हैं
जीने की चाहत में, जीवन छूट रहा है

 

~ मोहिनी

 


 

Jeene ki chah mein, jeevan chhut raha hai
Kuch toh hain, Jo andar se toot raha hai
Hasrate kab uthi, kab shaant ho gayi
Zindagi gul se, kab bejaan ho gayi
Aisa nahi ki, khilne ki chah nahi Par,
Kuch to hai Jo andar se toot raha hai
Jeene ki chahat me, jivan chhut raha hai

 

~ Mohini

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.