1

Peda hone se marne tak ka safar-e-zindagi

Share This

जिस रोज पैदा होते हैं हम
उस रोज बहुत खुशियां मनाई जाती है

बचपन से लेकर बुढ़ापे तक
सपनो की एक दुनिया सजाई जाती है

खुशी और ग़म की आँखों से
ज़िन्दगी की तस्वीर दिखाई जाती है

जिस रोज मरते हैं हम
उस रोज हमारी खूबियां बताई जाती है ।

 


Jis roz peda hote hai hum
Us roz bahut khusiya manayi jati h

Bachpan se lekar budape tak
Sapno ki ek duniya sajayi jati hain

Khushi aur ghum ki aankho se
Zindagi ki tasveer dikhayi jati hai

Jis roz martey hain hum
Us roz humari khubiya batayi jati h

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.