2

चंद शब्दों में बहुत ही गहरी भावना

जितना चाहो तोड़ लो तुम मुझे आज…….
मै शीशा हूँ टूट कर भी खनक छोड़ जाऊंगा

Comments

comments

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *