0

इश्क़ का मुज़रिम, दिल की अदालत

अपनी दिल की अदालत में दिल पर मुकदमा चलाओ
इश्क़ का मुज़रिम हु तेरा, जरा कोई तो सजा सुनाओ

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *