0

वीरान सड़क सी हैं ज़िन्दगी मेरी

इक वीरान सड़क सी हैं ज़िन्दगी मेरी…
गुजरते बहुत हैं मगर ठहरता कोई नहीं

 

~ उत्कर्ष आर्यन

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.