0

उम्मीद पे गुज़ारी एक शाम

आज इस उम्मीद पे गुज़ारी है मैंने एक शाम,
की फिर कोई शाम सिर्फ उम्मीद पे ना गुजरे ।

 

~ NK

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.