0

हर शख्स की अपनी कहानी है

कुछ बिगड़ गए, कुछ सुलझ गए, कुछ उलझ गए सुलझाने में।
हर शख्स की अपनी कहानी है, जो डुब गए पयमाने में।

 

~ Anushthi Singh

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.