0

हर दर्द की दवा

 

तू क्या हमारा दर्द समझेगा ए-मुर्शद, हमने तो वो खोया है जो हमारे हर दर्द की दवा होते थे।।

 

~ शांतनु शर्मा

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.