0

कामयाबी के फ़िक्र में ज़िन्दगी

Kamyabi ke Fikar me Zindagi Status

 

अब पहले जैसी ना रही ज़िंदगी बस सोचते सोचते गुज़र रही है,
मौज तो बचपन में थी यारों अब तो कामयाबी के फ़िकरों में निकल रही है।

 

~ Nitish Dutt

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.