0

ख़्वाहिशों को भी पालना सीखिए

ख़्वाहिशों को भी पालना सीखिए,
एक दिन मुकाम मिलेगा ज़रूर..।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘बरसाने’

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.