1

Jazbat me mat baho kabhi

जज़्बातों में बहकर, खुद को किसी के अधीन मत कीजिए
खुदा और खुद के अलावा, किसी पर यक़ीन मत कीजिए ।

Share This

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.