0

Matlab se bhari es duniya me kaise kaise log

Matlabi Duniya Par Shayari

Matlabi Duniya Par Shayari

 

तुम्ही को मुबारक रहे दोस्तों, मुझे ऐसी दुनिया नहीं चाहिए
अपने ही मतलब से भरी इस दुनिया में कैसे कैसे हैं लोग

 

पिघलती नहीं आंसूओ से कभी, ये दुनिया वह पत्थर की दिवार हैं
किसी के गम से इसे क्या काम, ये दुनिया ख़ुशी की खरीददार हैं

 

ये दुनिया तो हैं एक नीलाम घर, यहाँ ज़िन्दगी बेच देते हैं लोग
किसे अपना, किसे अजनबी समझें, यहाँ मोहब्बत तक बेच देते हैं लोग

 

तुम्ही को मुबारक रहे दोस्तों, मुझे ऐसी दुनिया नहीं चाहिए
अपने ही मतलब से भरी इस दुनिया में कैसे कैसे हैं लोग

 

 

Share This
0

Sacche Pyar ki chahat me Shayari

Sacche Pyar ki chahat me shayari

 

मेरी तन्हाई को अब एक मेहमान चाहिए
मुझको फरेबी नहीं, एक इंसान चाहिए

अँधेरे है ज़िन्दगी में दूर तलक बहुत
मुझको उजालों का कारवां चाहिए…..!!

 

Share This
0

Dard mila tujhe bhulkar

Dard Mila Tujhe Bhulkar

 

तेरी बातों का असर जो छाया है मेरे दिल पर
यक़ीनन मुझे तड़पाएगा अब ये रात भर
सोचा भूल जाऊंगा तुझे अब करूँगा ना याद
मगर दर्द ही मिला मुझे, तुझे भूल कर

 

Share This
1

तुम्हारे बदन से वो मोहब्बत की खूश्बू आती नहीं

तुम क़रीब हो मगर फ़िर भी तुम्हारे बदन से वो मोहब्बत की खूश्बू आती नहीं।
इन हवाओं का रूख भी बदल रहा है, लगता है तुम्हें अब सोहबत मेरी भाती नहीं।

~ नीरज कुमार

Share This