0

गर्दिश में सितारे

हवाओं के इशारे होते हैं,
नदियों के भी किनारे होते हैं।
सिर्फ अहसास करने की बात है,
कभी कभी गर्दिश में सितारे ह़ोते हैं।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

तुम मेरी सरगम बनो और मैं संगीत

तुम मेरी लय बनो और मैं तेरा गीत बनूं ,
तुम मेरी प्रीत बनो और मैं तेरा मीत बनूं ।
दुख की बरसात हो या खुशियों की बेला,
तुम मेरी सरगम बनो और मैं संगीत बनूं।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

झूठी शानोशौकत और दिखावा करने वालो पर 4 पंक्तिया

कभी कभी आदमी इतराता बहुत है,
होता कुछ नहीं पर दिखाता बहुत है।
झूठी शानोशौकत में जीना चाहता है,
भेद खुल जाने पर वह शर्माता बहुत है।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
1

ज़िंदगी जीने का नया ढ़ंग होना चाहिए

ज़िंदगी में रंग और उमंग होना चाहिए,
एक सच्चा हमसफर भी संग होना चाहिए
माता पिता, गुरुओं का आशीष बना रहे,
ज़िंदगी जीने का नया ढ़ंग होना चाहिए।

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

Share This
0

मुश्किलों के दौर में थोड़ा संभल कर चलो

मुश्किलों के दौर में थोड़ा संभल कर चलो,
अनुभवों से सीख लो और निखर कर चलो।
कठिनाइयाँ तो आएंगी और चली जाएंगी,
सजग होकर इसी तरह नए सफ़र पर चलो।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

आज उनसे फिर मुलाकात हुई

आज उनसे फिर मुलाकात हुई,
बीती हुई बातें कुछ ख़ास हुई।
ख़ुशी दिल में थी और चेहरे पर गम था,
अचानक इसी मिलन में बरसात हुई।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

सपने जीवन में अनमोल होते हैं

नींद में सपने दिखाई देते हैं, कभी कुछ अपने दिखाई देते हैं।
सपने जीवन में अनमोल होते हैं, कभी सपने सच्चे दिखाई देते हैं।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

प्यार के गीत गाते रहो | जोश और उमंग से भरी कविता

प्यार के गीत गाते रहो
तुम सदा यूं ही मुस्कुराते रहो।

ज़िंदगी की बड़ी है कठिन डगर,
ख़ुशियों के गीत सदा गुनगुनाते रहो।

हंसते-हंसते ये रास्ता कट जाएगा,
गम का बादल सदा यूं ही छंट जाएगा।

प्रेम की डोर यूं ही पकड़ कर चलो,
कुछ ना कुछ बोझ जीवन का बंट जाएगा।

उदासी न हो ना ही अफ़सोस हो,
मन में यूं ही हमारे नया जोश हो।

प्रीत पलती रहे ज़िंदगी में सदा,
मन में अपने न कोई आक्रोश हो।

प्यार के गीत गाते रहो………….।।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

माँ बाप के लिए बच्चो को सीख

दो घड़ी के लिए

दो घड़ी के लिए, बैठ जाया करो।
मां बाप के पास भी कभी आया करो।

 

दो घड़ी के लिए……..।।

 

कभी उंगली पकड़कर, चलना सिखाया था।
कभी उनको भी बाहर घुमाया करो।

 

दो घड़ी के लिए…….।।

 

प्यार के दो बोल, अनमोल हैं।
प्यार से कभी तुम, मनाया करो।

 

दो घड़ी के लिए……..।।

 

माना तुम पढ़ लिखकर, इंसान हो गए।
कभी तो इंसानियत, दिखाया करो।

 

दो घड़ी के लिए……..।।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
Page 1 of 3
1 2 3