1

शर्मीले आशिक़ो पर शायरी

नजरे जो झुखाओगे तो दीदार कैसे होगा
निगाहें जो छुपाओगे तो इकरार कैसे होगा
प्यार में तो होती हैं आँखों से बातें…
आँखे जो चुराओगे तो प्यार कैसे होगा