0

तुम्हीं मेरी ज़िंदगी हो ऐ प्रियतम

तेरा गर साथ मुझको मिल जाए, दिल की बगिया में फूल खिल जाए।
तुम्हीं मेरी ज़िंदगी हो ऐ प्रियतम, हमसफ़र प्यार तेरा मिल जाए।

 

~ जितेन्द्र मिश्र ‘बरसाने’

 

Share This
Page 5 of 33
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 33