0

वक्त वो दोस्त है जो

वक्त वो दोस्त है जो सिखाता रहा। हंसाता रहा और रुलाता रहा।
ठोकरें खाकर ही चलना सीखा है। वक्त ही नयी राह दिखाता रहा।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

ऐतबार -ए- मोहब्बत में इस कदर टूटे

ऐतबार – ए – मोहब्बत में इस कदर टूटे है, कि……..,
सुकून-ए-दिल की तलाश में ना जाने कहां-कहां भटके है

 

~ आयुषी शर्मा

 

Share This
0

तेरी यादें, तेरी मौजूदगी हमेशा कायम रखूगी

“तेरी यादों के अलावा कुछ नहीं मेरे पास उन्हें हमेशा संभाल कर रखूगी……….,
दिल का वो कमरा खाली ना समझना उसमें तेरी मौजूदगी हमेशा कायम रखूगी”

 

~ आयुषी शर्मा

 

 

Share This
0

बच्चे मन के सच्चे

आसमान सिर पर उठाते हैं बच्चे, खेलते-कूदते और मुस्काते हैं बच्चे।
ये बच्चे भी मन के सच्चे होते हैं, सीखते और कुछ सिखाते हैं बच्चे।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
Page 3 of 33
1 2 3 4 5 6 7 8 33