0

Karte hain hum yaad unhe

Karte hain hum yaad unhe jo karte the hume yaad kabhi
Fariyaad kisi ki karte hai jisne ki mohabbat humse kabhi

 

~ Ravisha.D

 


 

करते हैं हम याद उन्हें…………, जो करते थे हमे याद कभी
फरियाद किसी की करते हैं जिसने की मोहब्बत हमसे कभी

~ रविशा

 

Share This
0

झूठी शान और लालच | Very True Lines

हम स्वार्थ की ज़मीन पर नफरतों का बीज बो रहे हैं।
झूठी शान और लालच में हम रिश्तों को खो रहे हैं।।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

करीब होकर भी दूर

अगर वो कहता है तुम्हें बदलने को,
तो वो तुम्हें नहीं तुम्हारे बदले रूप को चाहता है,
होकर भी करीब तुम्हारे, वो तुम्हें अधूरा ही जान पाता है

 

~ Meri Pehchan

 

Share This
Page 2 of 34
1 2 3 4 5 6 7 34