0

Matlab se bhari es duniya me kaise kaise log

Matlabi Duniya Par Shayari

Matlabi Duniya Par Shayari

 

तुम्ही को मुबारक रहे दोस्तों, मुझे ऐसी दुनिया नहीं चाहिए
अपने ही मतलब से भरी इस दुनिया में कैसे कैसे हैं लोग

 

पिघलती नहीं आंसूओ से कभी, ये दुनिया वह पत्थर की दिवार हैं
किसी के गम से इसे क्या काम, ये दुनिया ख़ुशी की खरीददार हैं

 

ये दुनिया तो हैं एक नीलाम घर, यहाँ ज़िन्दगी बेच देते हैं लोग
किसे अपना, किसे अजनबी समझें, यहाँ मोहब्बत तक बेच देते हैं लोग

 

तुम्ही को मुबारक रहे दोस्तों, मुझे ऐसी दुनिया नहीं चाहिए
अपने ही मतलब से भरी इस दुनिया में कैसे कैसे हैं लोग

 

 

Share This
1

तुम्हारे बदन से वो मोहब्बत की खूश्बू आती नहीं

तुम क़रीब हो मगर फ़िर भी तुम्हारे बदन से वो मोहब्बत की खूश्बू आती नहीं।
इन हवाओं का रूख भी बदल रहा है, लगता है तुम्हें अब सोहबत मेरी भाती नहीं।

~ नीरज कुमार

Share This
1

बेदर्दी से क़त्ल

कैसा हाल है हमारा, अब ना पूछो हमसे
फिर से वो कहानी अब ना सुना पाएंगे
किसने किया हैं यूँ बेदर्दी से क़त्ल हमारा
उस कातिल का नाम ना हम बता पाएंगे

Share This
0

किस्मत ने भी जाने कितनो को हराया

किस्मत के खेल को, कौन जानता था,
जो आज मेरा हैं वो कल पराया होगा,
जानकर भी रोक ना पाते तकदीर की रवानी को,
किस्मत ने भी जाने कितनो को हराया होगा

~ मीना

Share This
0

तुमने ही हंसी दी थी, तुमने ही रुलाया हैं

एक प्यार के मुजरिम से उल्फत भी करे तो कैसे करे,
तुम्हे टूट के चाहा था नफरत भी करे तो कैसे करे,
जो प्यार हमे करता उसने ही डुबाया हैं,
क्या प्यार में सोचा था क्या प्यार में पाया हैं,

 

तुम जो भी हमे समझो पर तुमको सदा सरहाएंगे हम,
चाह कर भी तुम्हे भुला ना पाएंगे हम,
तुमने ही हंसी दी थी, तुमने ही रुलाया हैं
क्या प्यार में सोचा था, क्या प्यार में पाया हैं…

Share This
1

क्या प्यार में सोचा था, क्या प्यार में पाया हैं

क्या प्यार में सोचा था, क्या प्यार में पाया हैं,
तुझको मिलाने की चाहत में, खुद को मिटाया हैं,
इस पर भी कोई इलज़ाम, ना तुझ पर लगाया हैं
मेरी ही ख्वाईशो ने, आज मुझे अर्थी पर सुलाया हैं

Share This
1

मेहबूब की याद में रोती हुयी आँखों पर शायरी

रात भर रोती रही वो आँखें,
जाने किसकी याद में जागती रही वो आँखें।

अश्को की अब क्या कीमत लगायी जाये
की हर आंसू के गिरते,
किसी को पुकारती रही वो आँखें।

पलकों पे तस्वीर लिए मेहबूब का,
तरसती रही वो आँखें।

कहना चाहा बहुत कुछ,
पर खामोश रही वो आँखें।

उन आँखों को चाहिए था दीदार अपने मेहबूब का
जो रूठ के चला गया हैं कही दूर,
उसके लौट आने की राह तख्ती रही वो आँखें..।।

Share This
3

तनहा मौसम और उदास रात की शायरी

तन्हा मौसम है और उदास ‪‎रात‬ है
वो मिल के बिछड़ गये ये ‪‎कैसी मुलाक़ात‬ है,
दिल धड़क तो रहा है मगर ‎आवाज़‬ नही है,
वो धड़कन भी साथ ले गये ‎कितनी अजीब‬ बात है!

Share This
2

प्यार में धोखा और बेवफा पर शायरी

बेवफा तो वो खुद थी,
पर इलज़ाम किसी और को देती हैं

पहले नाम था मेरा उसके होंठो पर,
अब वो नाम किसी और का लेती हैं,

कभी लेती थी वादा मुझसे साथ ना छोड़ने का
अब यही वादा वो किसी और से लेती हैं..||

Share This
Page 5 of 20
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 20