1

शराब से ज्यादा नशीली आंखें

Share This

कैसे मैं बताऊं किस कदर उसके सपने सजते है,
उसके दिलकश नजारो के आगे चाँद तारे भी फ़िके लगते है।
शराब से ज्यादा नशीली है उसकी आंखें,साहब..,
तुम क्या जानो हमको पता है हम कैसे बचते है…

 

~ रवि मिश्रा

1

शर्मीले आशिक़ो पर शायरी

Share This

नजरे जो झुखाओगे तो दीदार कैसे होगा
निगाहें जो छुपाओगे तो इकरार कैसे होगा
प्यार में तो होती हैं आँखों से बातें…
आँखे जो चुराओगे तो प्यार कैसे होगा

2

बारिश की हर बूँद तेरी याद दिलाती है

Share This

बारिश की हर बूँद कुछ मीठी याद दिलाती है
तेरे साथ ना होने पर भी साथ होने का एहसास दिलाती है
लाखो दूरियाँ सही पर तेरी नज़दीकियों का एहसास दिलाती है
भीग जाऊ उन सिमटी यादों में, के अब हर बूँद मुझे तेरी याद दिलाती है

1

वो मोहब्बत ही क्या जिसके काबिल ना बन सके

Share This

वो ख़्वाब ही क्या जिसे पूरा ना कर सके….
वो मंजिल ही क्या जिसे हासिल ना करे सके
वो बेगुनाही ही क्या जिसे साबित ना करे सके
और वो मोहब्बत ही क्या जिसके काबिल ना बन सके

~ Sweety Phogat

1

शमा और परवाने की इश्क़ मोहब्बत शायरी

Share This

ना जाने मुहब्बत में कितने अफसाने बन जाते है,
शमां जिसको भी जलाती है, वो परवाने बन जाते है।
कुछ हासिल करना ही इश्क कि मंजिल नही होती,
किसी को खोकर भी, कुछ लोग दिवाने बन जाते है।

2

राह में उनसे पहली मुलाकात की शायरी

Share This

चलते चलते राह में उनसे पहली मुलाकात हुई,
वो कुछ शरमाई फिर सहम सी गई,
दिल तो हमारा भी किया कि कह दे उनसे
अपने दिल की बात…
पर कम्बखत इस दिल की इतनी हिम्मत ही न हुई.

5

प्यार में हद से गुजर जाने की रोमांटिक लव शायरी

Share This

जब यार मेरा हो पास मेरे, मैं क्यूँ न हद से गुजर जाऊँ,
जिस्म बना लूँ उसे मैं अपना, या रूह मैं उसकी बन जाऊँ।
लबों से छू लूँ जिस्म तेरा, साँसों में साँस जगा जाऊँ,
तू कहे अगर इक बार मुझे, मैं खुद ही तुझमें समा जाऊँ।

3

ज़ज़्बात से वाकिफ कलम प्यार शायरी

Share This

अलफ़ाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता हैं
यहाँ पानी को भी प्यास लिखा जाता हैं
मेरे ज़ज़्बात से वाकिफ हैं मेरी कलम,
मैं प्यार लिखू तो तेरा नाम लिखा जाता हैं

~ N.M

Page 1 of 10
1 2 3 4 5 6 10