8

इतनी भी समझदारी अच्छी नहीं

शरारत भी मियाँ अब तो सोच कर करते हो
ये कैसा बना लिया है आखिर तुमने खुद को

इतनी भी समझदारी अच्छी नहीं होती है
जीवन की राहें हमेशा कच्ची नहीं होती है

खुलकर जीना भी ज़रूरी है इस जहान में
कब तक क़ैद रहोगे तुम डर के मकान में

भरोसा जब टूटता है तो यकीनन दर्द होता है
पर हर दर्द में ही तो छुपा एक हमदर्द होता है

मोहब्बत भी मियाँ अब तो सोच कर करते हो
ये कैसा बना लिया है आखिर तुमने खुद को।

Share This

Maa Baap ki Dua Sath Lekar Chalta Hu

Maa baap ki dua sath lekar chalta hu,
Rahgir hu raho ki parwah kha krta hu,

Jaha bhi rahu Laut kar aaunga har roz
Kal kya hoga uski chinta kaha krta hu,

Manzilo tak jane ka sath diya jinhone,
Beta hone ka har shukraa adaa krta hu,

Rab se hai dua yahi Maa baap mile sbko
Unki seva kare sab yahi faryad krta hu

Share This

Majboor tum tanha hum shyri

Baate hain jyada or alfaaz hain kam
Raate hai jyada or mulakat hain kam

Majboor ho tum or tanha se hai hum
Zimedariyo k dariya me fase hai hum

Ishq ke liye dil me jazbaat bahut hai
Par unhe pura karne ka ehsaas h kam

Share This
Page 12 of 20
1 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 20