0

मुसाफिर यूं ना थक कर बैठ

Life Motivation Success Zindagi Ke Tufan Shayari

 

यह तुफान भी थम जाएंगे और रास्ते की कांटे भी हट जाएंगे
ऐ मुसाफिर यूं ना थक कर बैठ तेरे हौसले से
यह कायनात के असूल भी बदल जाएंगे…….
वह बैठा है ऊपर, उसके फैसले भी बदल जाएंगे

 

~ घनश्याम सिंह

 

Share This
0

Ego Logo Par Shayari

 

पलट के जवाब देना शायद अच्छी बात नहीं
पर चुप चाप गलत को सेहना कैसे है सही,
कुछ तुमने बोला और कुछ उसने है बाते कही,
अजीब है ना माफ़ी पहले किसी ने नहीं मांगी…ईगो की बात जो रही

 

~ Vinit

 

Share This
0

तिरंगा साथ ना हो तो, वतन अच्छा नहीं लगता

Tiranga Desh Bhakti Shayari

 

कोई वर्दी नहीं जंचती, वसन अच्छा नहीं लगता ।
सितारा साथ हो अगर, कफन अच्छा नहीं लगता ।।
दुनियां के अजनबी हैं हम, इन रंग बिरंगो से।
तिरंगा साथ ना हो तो, वतन अच्छा नहीं लगता।।

 

जय हिंद

 

~ Hritik Mishra (Indian Army)

 

Share This
1

कवि तो कवि होते है, Shayari about Kavi

Shayari Poem on Poet, Kavi, Writer

 

कवि तो कवि होते है ।
ये ऐसे बुद्ध जिवी होते है
प्रखर इनकी रचनाओं में शब्दों से रवि होते है।
हैदराबादी, उर्दू, या हिंदी, ये लखनवी होते है ।

 

व्यंग, कविताएं, तंज कसने में,
ये बड़े अनुभवी होते है ।
कागज़ वस्त्र इनके, कलम आभूषण
समाज में साक्षरता की छवि होते है।

 

मै कवि नहीं, और क्या लिखूं ,
कबीर, तुलसीदास, बच्चन, निराला,
संसार में कभी कभी होते है।
कवि तो कवि होते है ।।

 

~ Abhidat Arunkumar Fale

 

Share This
0

अब जीने में वो बचपन वाली बात नहीं

 

क्या हुआ जो अब तू मेरे साथ नहीं है,
वो पहले जैसा दिन और रात नहीं है,
तुझसे बिछडने का मलाल नहीं है मुझे,
बस अब जीने में वो बचपन वाली बात नहीं हैं।

 

– विक्रम

 

Share This
0

गलियों में भटकने की जरुरत क्या है?

Lockdown Shayari for who is going outside

 

“बे वजह घर से निकलने की जरुरत क्या है”
मौत से आँखे मिलाने की जरुरत क्या है

 

सब को मालूम है बाहर की हवा है कातिल
यूँही कातिल से उलझने की जरुरत क्या है

 

ज़िन्दगी एक नेमत है उसे संभाल के रखो
कब्रगाहों को सजाने की जरुरत क्या है

 

दिल बहलाने के लिए घर में वजह है काफी
यूँही गलियों में भटकने की जरुरत क्या है”

 

#Lockdown
#Covid-19
#CoronaVirus
#IndiaFightsCorona

 

Share This
0

Corona Virus Effects on Poor People Shayari by Ayushman

Ayushman Lockdown Corona Shayari

Ayushman Lockdown Corona Shayari

 

अब अमीर का हर दिन रविवार हो गया,
और गरीब है अपने सोमवार के इंतजार में,
अब अमीर का हर दिन से परिवार हो गया है,
और गरीब है अपने रोजगार के इंतजार में

– आयुष्मान खुराना

 

#covid-19

Share This
2

Sad Corona Virus Shayari

 

ए इंसान मत खा तू इतनी दरिंदगी से किसी जीव को
रख इंसानियत कुछ तो, वो भी किसी का बच्चा होगा
खुदा की जब आएगी बारी तुझे सजा देने की
क्या जवाब तेरे पास उस खुदा को देने का होगा

 

#saveanimals
#bevegetarian
#livelonglife
#dnteatnonveg
#Byenonveg

 

Share This
Page 1 of 15
1 2 3 4 5 6 15