4

Beautiful Poem on Zindagi me toda love sove karte hai

Zindagi me thoda love sove krte h
Mohabbat ki raaho par chal pdte h
Chod duniyadaari ki chintaao ko…
Aazad panchi ki tarah udd chalte h

Zindagi me thoda love sove krte h
Apni kahani ko kuch yu badalte h
Dhadkano ko yu machalne dete h
Beparwah nadi ki trah beh chalte h

Zindagi me thoda love sove krte h
Dewangi ki hadh se aage bhd chlte h
Logo ki un mehfilo ko bhuul chlte h
Aashiqi ka asar sb par chod chlte h

Chal aaj se….
Zindagi me thoda love sove krte h

Share This

True Lines Aajkal Ke Insano Ke Bare Mein

कोई टोपी तो कोई अपनी पगड़ी बेच देता है
मिले अगर भाव अच्छा, जज भी कुर्सी बेच देता है,

जला दी जाती है ससुराल में अक्सर वही बेटी
के जिस बेटी की खातिर बाप किडनी बेच देता है,

कोई मासूम लड़की प्यार में कुर्बान है जिस पर
बनाकर वीडियो उसका, वो प्रेमी बेच देता है,

ये कलयुग है, कोई भी चीज़ नामुमकिन नहीं इसमें
कली, फल फूल, पेड़ पौधे सब माली बेच देता है,

किसी ने प्यार में दिल हारा तो क्यूँ हैरत है लोगों को
युद्धिष्ठिर तो जुए में अपनी पत्नी बेच देता है….!!!

Share This

Most Heart Touching Yaadein Poem | Long Shayri

Yaadon ko bhulane mein,
Kuch der toh lagti hain..
Aankhon ko sulane mein,
Kuch der toh lagti hain..

Kisi shakhs ko bhula dena,
Itna aasaan nahi hota..
Dil ko samjhane mein,
Kuch der toh lagti hain..

Bhari mehfil mein jab koi,
Achanak yaad aa jaaye,
Fir aansoo chupane mein,
Kuch der toh lagti hain..

Jo shakhs jaan se pyara ho,
Achanak door ho jaaye,
Dil ko yaqeen dilane main,
Kuch der toh lagti hain…..!!

 

(I Missing you a lot)

Share This

Motivating Being Human Poem for Indians

ना मुसलमान खतरे में है,
ना हिन्दू खतरे में है
धर्म और मज़हब से बँटता
इंसान खतरे में है।।

ना राम खतरे में है,
ना रहमान खतरे में है
सियासत की भेट चढ़ता
भाईचारा खतरे में है।।

ना कुरआन खतरे में है,
ना गीता खतरे में है
नफरत की दलीलों से
इन किताबो का ज्ञान खतरे में है।।

ना मस्जिद खतरे में है,
ना मंदिर खतरे में है
सत्ता के लालची हाथो,
इन दीवारो की बुनियाद खतरे में है।।

ना ईद खतरे में है,
ना दिवाली खतरे में है
गैर मुल्कों की नज़र लगी है,
हमारा सदभाव खतरे में है।।

धर्म और मज़हब का चश्मा
उतार कर देखो दोस्तों
अब तो हमारा
हिन्दुस्तान खतरे में है |

एक बनो, नेक बनो
ना हिन्दू बनो ना मुसलमान बनो,
अरे पहले ढंग से इंसान तो बनो।।

Share This

Short Hindi Kavita about Badalti Duniya, Badalte Log

मौसम से हरियाली गायब
जीवन से खुशहाली गायब

ईयरफ़ोन हुआ है गहना
अब कानों से बाली गायब

ईद खुशी की आये कैसे
होली गुम दीवाली गायब

उतरा है आँखों का पानी
औ चेहरे की लाली गायब

अफ़वाहों के बम जिन्दा हैं
बातें भोली -भाली गायब

मीठापन भी ज़हर हुआ है
वो मिश्री सी गाली गायब

डॉ० विनय मिश्र

Share This

Life Inspirational Poems in Hindi

तू जिंदगी को जी,
उसे समझने की कोशिश न कर

सुन्दर सपनो के ताने बाने बुन,
उसमे उलझने की कोशिश न कर

चलते वक़्त के साथ तू भी चल,
उसमे सिमटने की कोशिश न कर

अपने हाथो को फैला, खुल कर साँस ले,
अंदर ही अंदर घुटने की कोशिश न कर

मन में चल रहे युद्ध को विराम दे,
खामख्वाह खुद से लड़ने की कोशिश न कर

कुछ बाते भगवान् पर छोड़ दे,
सब कुछ खुद सुलझाने की कोशिश न कर

जो मिल गया उसी में खुश रह,
जो सकून छीन ले वो पाने की कोशिश न कर

रास्ते की सुंदरता का लुत्फ़ उठा,
मंजिल पर जल्दी पहुचने की कोशिश न कर !

Share This

Sweet Love Poetry in Hindi on Khamoshi

सुनो… यूँ “चुप” से न रहा करो,

यूँ “खामोश” से जो हो जाते हो,
तो दिल को “वहम” सा हो जाता है,

कहीं “खफा” तो नही हो..??
कहीं “उदास” तो नही हो…??

तुम “बोलते” अच्छे लगते हो,
तुम “लड़ते” अच्छे लगते हो,

कभी “शरारत” से, कभी “गुस्से” से,
तुम “हँसते” अच्छे लगते हो,

सुनो… यूँ “चुप” से ना रहा करो।

 

Share This

Motivational Poems in Hindi about Success

कोशिश कर, हल निकलेगा।
आज नही तो, कल निकलेगा।

अर्जुन के तीर सा सध,
मरूस्थल से भी जल निकलेगा।।

मेहनत कर, पौधो को पानी दे,
बंजर जमीन से भी फल निकलेगा।

ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,
फौलाद का भी बल निकलेगा।

जिन्दा रख, दिल में उम्मीदों को,
गरल के समन्दर से भी गंगाजल निकलेगा।

कोशिशें जारी रख कुछ कर गुजरने की,
जो है आज थमा थमा सा, चल निकलेगा।।

Share This

Superb Zindagi Hindi Poems on Friendship

उलझनों और कश्मकश में उम्मीद की ढाल लिए बैठा हूँ …
ए जिंदगी! तेरी हर चाल के लिए मैं दो चाल लिए बैठा हूँ |

लुत्फ़ उठा रहा हूँ मैं भी आँख – मिचौली का …
मिलेगी कामयाबी हौसला कमाल लिए बैठा हूँ l

चल मान लिया दो-चार दिन नहीं मेरे मुताबिक
गिरेबान में अपने ये सुनहरा साल लिए बैठा हूँ l

ये गहराइयां, ये लहरें, ये तूफां, तुम्हें मुबारक …
मुझे क्या फ़िक्र मैं कश्तियां और दोस्त बेमिसाल लिए बैठा हूँ…

Share This

Long Sad Shayari in Hindi on Silent Love

“मिला वो भी नही करते,
मिला हम भी नही करते.”

“दगा वो भी नही करते,
दगा हम भी नही करते.”

“उन्हे रुसवाई का दुख,
हमे तन्हाई का डर”

“गिला वो भी नही करते,
शिकवा हम भी नही करते.”

“किसी मोड़ पर मुलाकात हो जाती है अक्सर”
“रुका वो भी नही करते,
ठहरा हम भी नही करते.”

“जब भी देखते हैं उन्हे,
सोचते है कुछ कहें उनसे.”

“सुना वो भी नही करते,
कहा हम भी नही करते.”

“लेकिन ये भी सच है,
की मोहब्बत उन्हे भी हे हमसे”

“इकरार वो भी नही करते,
इज़हार हम भी नही करते.”

Share This
Page 6 of 8
1 2 3 4 5 6 7 8