0

Mahatma Gandhi Motivational Quotes in Hindi

गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। जिन्हें महात्मा गांधी या राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन गांधी जी के जन्म दिवस को गांधी जयंती के रूप में मनाते हैं। महात्मा गांधी ने अहिंसा की राह पर चलते हुए देश की आजादी में योगदान दिया जिसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। महात्मा गाँधी जी ने अपने कर्म के द्वारा पूरी दुनिया को सत्य-अहिंसा का पाठ पढ़ाया। गांधी जी ने हम सभी को यह सन्देश दिया है की सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर कठिन परिस्थति का भी आसानी से सामना किया जा सकता हैं। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी के महान विचारों से प्रेरणा लेकर हम अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकतें हैं। अगर आप भी गांधी जी के महान विचारों को अपनाना चाहते हैं तो हम गाँधी जयंती के अवसर पर इस पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आएं हैं Mahatma Gandhi Motivational Quotes in Hindi, महात्मा गाँधी के प्रेरणादायक हिंदी कोट्स  इन कोट्स को आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकतें हैं और आप भी उनके विचारों को अपनाकर अपने जीवन में बदलाव ला सकतें हैं।

Mahatma Gandhi Motivational Quotes in Hindi

Mahatma Gandhi Motivational Quotes in Hindi

 

खुद को बदलें – आप नियंत्रण में हैं।

 

तभी बोलो जब वो मौन से बेहतर हो।

 

एक अच्छा इंसान सभी जीवों का मित्र होता है।

 

आप नम्र तरीके से दुनिया को हिला सकते है।

 

आप आज जो करते हैं उस पर भविष्य निर्भर करता है।

 

खुद में वो बदलाव लाइए,जो दुनिया में देखना चाहते है।

 

प्रार्थना ह्रदय से करना बेहतर हैं,केवल शब्दों से नहीं।

 

स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है स्वयं को औरों की सेवा में डुबो देना।

 

गर्व लक्ष्य को पाने के लिए किये गए प्रयत्न में निहित है, ना कि उसे पाने में।

 

मानवता की महानता मानव होने में नहीं, बल्कि मानवीय होने में है।

 

हमें यह देखने की प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए कि दूसरे क्या करते हैं।

 

प्रार्थना ह्रदय से करना बेहतर हैं, केवल शब्दों से नहीं।

 

कुछ करने में, या तो उसे प्रेम से करें या उसे कभी करें ही नहीं।

 

यदि मनुष्य सीखना चाहे, तो उसकी हर भूल उसे कुछ शिक्षा दे सकती है।

 

जब भी आपका सामना किसी विरोधी से हो, उसे प्रेम से जीतें।

 

Gandhi Ji Inspirational Status in Hindi

 

हमेशा अपने विचारों, शब्दों और कर्म पर पूर्ण सामंजस्य का लक्ष्य रखें।

 

स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है स्वयं को औरों की सेवा में डुबो देना।

 

व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित एक प्राणी है, वह जो सोचता है वही बन जाता है।

 

ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो। ऐसे सीखो की तुम हमेशा के लिए जीने वाले हो।

 

ख़ुशी तब मिलेगी जब आप जो सोचते हैं, जो कहते हैं और जो करते हैं, सामंजस्य में हों।

 

कुछ लोग सफलता के सपने देखते हैं जबकि अन्य व्यक्ति जागते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं।

 

आप तब तक यह नहीं समझ पाते की आपके लिए कौन महत्त्वपूर्ण है जब तक आप उन्हें वास्तव में खो नहीं देते।

 

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे।

 

केवल प्रसन्नता ही एकमात्र इत्र है, जिसे आप दुसरो पर छिड़के तो उसकी कुछ बुँदे अवश्य ही आप पर भी पड़ती है।

 

हो सकता है आप कभी ना जान सकें कि आपके काम का क्या परिणाम हुआ, लेकिन यदि आप कुछ करेंगे नहीं तो कोई परिणाम नहीं होगा।

 

हमेशा अपने विचारों, शब्दों और कर्म के पूर्ण सामंजस्य का लक्ष्य रखें। हमेशा अपने विचारों को शुद्ध करने का लक्ष्य रखें और सब कुछ ठीक हो जायेगा।

 


Also visit –

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.