2

मोहब्बत के रंग, प्रेम-प्रीत का सबक है होली

Dost Dushman Rang Prem Shayari on Holi

 

मोहब्बत के रंग लगाती है होली |
ऊँच नीच, निर्बल सबको गले लगाती है होली |
दोस्त बनकर दुश्मन को रंग देती है,
प्रेम-प्रीत का सबक पढ़ाती है होली |

~ अब्दुल रहमान अंसारी (रहमान काका)

 

Share This
0

वक्त मिले तो खूद से भी मिल लेना

वक्त मिले तो खुद से भी मिल लेना!
अपने चहरे को दिल के आईने मे देख लेना!!
प्यार खुद से भी होगा तुम करके तो देखना!
वक्त मिले तो खुद से भी मिल लेना!!!!!

 

~ Manish

 

Share This
0

लिखने बैठा पन्नों पे एहसास और बन गयी तेरी तस्वीर

शब – ए – फुरकत भी ख़्वाबो की ताबीर बना दी
वो कौन था जिसने मिरी बिगड़ी तकदीर बना दी
मैं लिखने बैठा था पन्नो पे एहसास ऐ – ज़िन्दगी
और मेरे इस कम्भख्त दिल ने तेरी तस्वीर बना दी

 

~ Shayar Karan

 

 

Share This
0

ज़िंदगी के हर मोड़ में तू ही हमसफ़र

तु उड़ती है सपनो में, जब मैं नींद मैं खोता हूँ
मेरे दिल की धड़कन भी, मैं तुझमे ही सुनता हूँ
बिजली की आहट जैसी है तू, मैं पानी जैसे बरसता हूँ
ज़िंदगी के हर मोड़ में, अब मैं तुझको हमसफ़र चाहता हूँ

~ Abhishek panigrahi

 

Share This
0

तेरा मुझसे दूर जाना मेरी जान निकाल देता है

यूं तेरा आना मेरी धड़कने बढ़ा देता है ।
यूं तेरा मुस्कुराना मेरी सांसे अटका देता है ।।
तेरा शर्मीली निगाहों से देखना मुझे तिलमिला देता है
यूं तेरा मुझसे दूर जाना मेरी जान निकाल देता है ।।

 

~ Ashutosh dangi

 

Share This
0

ज़िन्दगी का हर दिन है बहार

खूबसूरत बहुत है दुनिया, नज़रिया बदल के तो देख एक बार।
रोने के होंगे सौ कारण बेशक, पर तू हंसने के कारण तो ढूंढ यार।
कभी वक्त बिता अपने साथ भी, कभी किसी की खुशी पर कर दिल निसार।
उमंग जब है तेरे मन में तो, इस ज़िन्दगी का हर दिन है बहार।

 

~ Mahira

 

Share This
0

झूठी शान और लालच | Very True Lines

हम स्वार्थ की ज़मीन पर नफरतों का बीज बो रहे हैं।
झूठी शान और लालच में हम रिश्तों को खो रहे हैं।।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
Page 6 of 139
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 139