0

ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

चले हैं लोग मैं रस्ता हुआ हूं
मुद्दत से यहीं ठहरा हुआ हूं

ज़माने ने मुझे जब चोट दी है
मैं जिंदा था नहीं जिंदा हुआ हूं

मैं पहले से कभी ऐसा नहीं था
मैं तुमको देखकर प्यारा हुआ हूं

मैं कागज सा न फट जाऊं
ए लोगो उठाओ ना मुझे भीगा हुआ हूं

मेरी तस्वीर अपने साथ लेना
अभी हालात से सहमा हुआ हूं

कभी आओ इधर मुझको समेटो
मैं तिनकों सा कहीं बिखरा हुआ हूं

चलो अब पूछना तारों की बातें
अभी मैं आसमां सारा हुआ हूं

मुसलसल बात तेरी याद आई गया
वो वक़्त मैं उलझा हुआ हूं

बुरा कोई नहीं होता जन्म से
मुझे ही देख लो कैसा हुआ हूं

ज़माने ने मुझे जितना कुरेदा
मैं उतना और भी गहरा हुआ हूं

~ सुरेश सांगवान (saru)

0

ए माँ, आ, सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

ए माँ तेरी याद बहुत आती हैं हमे
अब तो तेरी दुआएं ही बचाती हैं हमे
अपने क़दमों की हमे जन्नत दे दे..
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

हम सबको अकेला तू क्यों छोड़ गयी
अपने बच्चों का दिल क्यों तोड़ गयी
आ माँ हम सब को वो चाहत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

ए – माँ तेरी जुदाई, अब अक्सर रुलायेगी
तेरा गुस्सा करना, तेरी वो बातें अब सताएगी
ए माँ हमे अपनी ममता की दौलत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

अब साया कौन सा ठहरेगा सर पर
कैसे आएगी अब रौनक घर पर
ए माँ, आ हमे जीने की हसरत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

 

-Azeem

0

छिप कर वार करने वाले कायर आतंकवादियों पर शायरी

कायर पाकिस्तान शायरी

 

अगर अपनी माँ का दूध पिया है
क्यों नहीं युद्ध के मैदान में आता है
जो छिप कर वार करे हम पर
वह कायर गीदड़ कहलाता है

 


 

पाकिस्तान को धमकी शायरी

 

करता है तू छिपकर का हमला
ये तो कायरता की निशानी है
क्या भारत इसका जबाब न देगा
ये समझना तेरी अब नादानी है

 

~ आर के रस्तोगी

0

श्रद्धांजलि स्टेटस नमन है मेरा 14th Feb पुलवामा शहीदों को

शहीदों पर श्रद्धांजलि स्टेटस

शहीदों पर श्रद्धांजलि स्टेटस

 

प्रेम गीत कैसे लिखू, जब चारो तरफ गम के बादल छाये है |
नमन है मेरा उन शहीदों को, जो तिरंगा ओढ़ कर आये है |

~ आर. के. रस्तोगी

Page 6 of 199
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 199