0

Aakhiri pal tak sath jiyenge

Aakhiri pal tak sath jeene wali love shayari

 

एक तू है, एक मैं हूँ,
तू मानता है जान मुझे,
मैं मानती हूँ ज़िन्दगी तुझे,
तेरी हर बात में मैं हूँ,
मेरी हर याद में तू हैं,
तेरी हर नब्ज़ में मैं हूँ,
बस तू ही तू है, बस तू ही तू हैं..!

 

तुजसे दूर हूँ मैं,
मुझसे दूर है तू,
आखिरी पल तक साथ जियेंगे
भले दूर सही दिल से जुड़े रहेंगे
है वादा मेरा निभाऊंगी साथ तेरा
क्युकी मेरे सांस में तू हैं,
बस तू ही तू हैं, बस तू ही तू है..!!

~ सेजल गोहद

 

Share This
0

दिल मे आखिर क्या है तुम्हारे

Dil me kya hai tumhare Shayari for Her

 

मोहब्बत मे कुछ यू हाल है मेरा,
तु मिली नहीं बस खयाल है तेरा
मुस्कुरा कर क्यों गुजर जाती हो सामने से
दिल मे आखिर क्या है तुम्हारे, ये सवाल है मेरा

~ दीपक

 

Share This
0

मैंने कोरोना का रोना देखा है

Corona ka Rona Sad But True Poem

 

मैंने कोरोना का रोना देखा है!
और उम्मीदों का खोना देखा है!!

 

लाचार मजदूरों को रोते देखा है!
गिरते पड़ते चलते और सोते देखा है!

 

पिता को सूनी आंखों से तड़पते देखा है!!
तो मां की गोद में बच्चे को मरते देखा है!

 

गरीबों का खुलेआम रोष देखा है!!
तो मध्यमवर्ग का मौन आक्रोश देखा है!

 

पीएम केयर के लिए भीख की शैली देखी है!
तो उसी पैसे से वर्चुअल रैली देखी है!!

 

गरीबों को अस्पतालों में लुटते देखा है! !
तो निर्दोषों को बेवजह पिटते देखा है!

 

अल्लाह भगवान की दुकानों का बंद भी होना देखा है!
तो रोना रोती सरकारों का अंत भी होना देखा है!!

~ Dr. Anita

 

Share This
1

मुसाफिर यूं ना थक कर बैठ

Life Motivation Success Zindagi Ke Tufan Shayari

 

यह तुफान भी थम जाएंगे और रास्ते की कांटे भी हट जाएंगे
ऐ मुसाफिर यूं ना थक कर बैठ तेरे हौसले से
यह कायनात के असूल भी बदल जाएंगे…….
वह बैठा है ऊपर, उसके फैसले भी बदल जाएंगे

 

~ घनश्याम सिंह

 

Share This
0

1990 wala pyar | 90’s Love Shayari Poem

1990 Love 90's Shayari Poems

 

अपना इश्क़ 1990 वाला चाहता हूँ,

 

टेक्स्ट, कॉल से दूर,
ख़तों पर रहना चाहता हूँ,

 

ये बाबू शोना छोड़के,
उसे प्रेमिका कहना चाहता हूँ,

 

जब मिले हम अचानक से,
तो उसकी खुशी देखना चाहता हूँ ,

 

जब आये सुखाने कपड़े छत पर,
तो चोरी चोरी मिलना चाहता हूँ,

 

जो पापा और भाई के आने से डरती हो,
ऐसी मेहबूबा चाहता हूँ,

 

हॉं, मैं आज भी मोहब्बत
पुराने जमाने वाली चाहता हूँ ।

 

~ नितिन राजपूत

 

Share This
Page 5 of 154
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 154