0

आसुओं की बुँदे टपक रही हैं

जिन आखों से आज आसुओं की बुँदे टपक रही हैं,
कभी उन में से दरिया -ए- नूर बरसा करता था,
ये जो चारों और बंजर सा जमीन देख रहे हो ना
कभी यहां पर भी मुस्कुराहट का सैलाब हुआ करता था

 

~ Biswajit Rath

 

Share This
0

Heart Touching True But Sad Corona Shayari

Heart Touching Corona Shayari

 

गुजर रही हैं ज़िन्दगी ऐसे मुकाम से,
अपने भी दूर हो जाते हैं जरा सी झुकाम से
तमाम कायनात में एक कातिल बीमारी की हवा हो गयी
वक़्त ने कैसा सितम ढाया की “दूरिया ही दवा” हो गयी

~ unknown

Share This
0

मशगुल था वो अपने यारों में

मशगुल था वो अपने यारों में,
हम रात भर करवट बदलते रहे
सोया होगा वो थक हार के,
कह कर ये खुदको बहलाते रहे

 

बेरुखी तो देखिए अगली सुबह
हाल_ए_दिल भी ना जाना उसने
और पागलपन था मेरा, जो रात भर
उसे समझकर तकिए को सहलाते रहे

 

~ Poonam Vaishnav

 

Share This
0

इश्क़ करने से पुरे शहर में बदनाम हो गया

आज कितने अरसे बाद तुझे देखा तो परेशान हो गया
कितनी बदल गयी हो देख के हैरान हो गया
एक पल सोचा की… क्या ये वही लड़की हैं ……..
जिसको इश्क़ करने से मैं पुरे शहर में बदनाम हो गया

 

~ कशिश बत्रा

 

Share This
0

दिल ही बदल गया है उनका, नए चेहरे ढूंढ लिए गए

जिन्हे हम ख़्वाब मे देखा करते थे, वो ख़्वाब ही बदल गए,
हाथ थामे जिनका वे, बड़े शोक से चलते थे..वे हाथ भी बदल गए,
सारे कसमें, जो वो, खाया करते थे, उनके मायने ही बदल गए,
शायद दिल ही बदल गया है उनका, इसीलिए नए चेहरे ढूंढ लिए गए ।

 

~ सुजीत कुमार

 

Share This
0

Karte hain hum yaad unhe

Karte hain hum yaad unhe jo karte the hume yaad kabhi
Fariyaad kisi ki karte hai jisne ki mohabbat humse kabhi

 

~ Ravisha.D

 


 

करते हैं हम याद उन्हें…………, जो करते थे हमे याद कभी
फरियाद किसी की करते हैं जिसने की मोहब्बत हमसे कभी

~ रविशा

 

Share This
0

घर के बुजुर्ग, त्यौहार और प्यार

नफ़रतें छोड़कर मन से, प्रेम के गीत हम गाएं।
आपसी बैर को भूलें, अपनों से भी मिल आएं।
सभी त्योहार बतलाते, सदा प्रेम से रहना।
सभी घर के बुज़ुर्गों को, कभी मन से न बिसराएं।

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

रंगों का पर्व होली

Rango ka parv Hindi Holi Wishes

 

रंगों का पर्व होली, देखो फिर आ गया
नवरंग से सजा हुआ, बादल जो छा गया
सभी लोग कर रहे हैं, हंसी और ठिठोली
आओ प्रेम से खेलें, यह पर्व जो होली…

आप सभी को होली की शुभकामनाएं

 

~ ‘जितेंद्र मिश्र’

 

Share This
Page 5 of 139
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 139