0

तुम हमसे इश्क़ कर बैठे हो

तुम ख़ामोशी की जुबां समझ लेते हो,
हमारी शाम को तुम सवार देते हो
तुम चाहे गुजारिश ना करो इस बात की,
हमे भी एतियात हैं तुम हमसे इश्क़ कर बैठे हो

 

~ शहज़ाद

 

Share This
0

नहीं रही कोई आरज़ू दिल में, जब मेरे पास तुम हो

सफर सुहाना जो तुम साथ हो,
रहूँ दीवाना जो हाथों में हाथ हो
बस नहीं रही कोई आरज़ू दिल में,
जबसे मान लिया हमने मेरे पास तुम हो

 

~ Shahezad

 

Share This
0

यह जीवन है क्षण भंगुर

जब जान लिया कि यह जीवन है क्षण भंगुर
फिर हे मनुष्य है तुझे किस बात का गुरूर
उठो! खंडित कर दो ऐसे विचार संकीर्ण
दिल के पिंजरे से कर दो मोहब्बत को विकीर्ण

 

~ Himanshi Nigam

 

Share This
0

कुदरत का कहर पूरी दुनिया पर

बन कर कुदरत का कहर पूरी दुनिया पर है बरसा
वक्त कुछ यूं बदला कि इंसान सांसों तक को है तरसा
अब भी वक्त है संभल जाओ यारों
कही बाद में ना कहना पड़े अब तो बीत चुका हैं अरसा।

 

~ Abhishek Mishra

 

Share This
0

दर्द ही मुझे ज़िंदा रखता हैं

मेरी कहानी में कई किरदार हैं
पर वो एक ही तो मुझे खुश रखता हैं
मेरी कहानी में कई दर्द हैं
पर ये दर्द ही तो मुझे ज़िंदा रखता हैं

 

~ विशाल

 


 

Meri kahani me kayi kirdar hai
Par wo ek hi to muje khush rakhta hai
Meri kahani me kayi dard hai
Par ye dard hi to muje zinda rakhta h

 

~ Vishal

 

Share This
0

गांव का जीवन, गांव के नज़ारे

गांव के बाजारों में भी, खूब नज़ारे होते थे।
चाट पकौड़ी और बताशों के चटकारे होते थे।
नीम और बरगद की छाया में बैठा करते थे।
खुशियों के पल आपस में वारे न्यारे होते थे।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

नज़रें चुरा रहा हूँ मैं

तेरे चेहरे की चमक बेहिसाब,
दिन-रात इसे ही निहार रहा हूँ मैं…

तुझे खबर लगे देखने की तुझको,
इससे पहले ही नज़रें चुरा रहा हूँ मैं…

तेरे सामने दिल बदमाश बन जाता हैं बेवक्त,
इसे इंतज़ार की तस्सली देकर ही सुधार रहा हूँ मैं…

ये कैसी ख़ता तुझसे इश्क़ करने की,
इस ख़ता को खुद ही सबसे बता रहा हूँ मैं…

जिन्हें शक हैं हमारे रिश्ते को लेकर,
उन कमबख्तों का हर सवाल मिटा रहा हूँ मैं…

आसमां में देखा था मैंने कभी तुझे,
आज अपने संग जमीं पर उतार रहा हूँ मैं…

तेरे चेहरे की चमक बेहिसाब,
दिन-रात इसे ही निहार रहा हूँ मैं…

तुझे खबर लगे देखने की तुझको,
इससे पहले ही नज़रें चुरा रहा हूँ मैं…

 

~ Monu yadav

 

Share This
Page 4 of 145
1 2 3 4 5 6 7 8 9 145