2

मोहब्बत के रंग, प्रेम-प्रीत का सबक है होली

Dost Dushman Rang Prem Shayari on Holi

 

मोहब्बत के रंग लगाती है होली |
ऊँच नीच, निर्बल सबको गले लगाती है होली |
दोस्त बनकर दुश्मन को रंग देती है,
प्रेम-प्रीत का सबक पढ़ाती है होली |

~ अब्दुल रहमान अंसारी (रहमान काका)

 

Share This

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.