0

जीने के लिए हम क्यों उनकी यादों का सहारा

बेरुखी, बे-बसी, खुदगर्ज़ी हम ये जुर्म हमेशा सहते हैं
बेवफा हैं वो इस बात को हम सर-ए-आम क्यूँ नहीं कहते हैं
ज़िंदा रहना इस दुनिया में हर दिल की एक मज़बूरी हैं
तो जीने के लिए हम क्यों उनकी यादों का सहारा लेते है

 

~ Sunil Dehgawani

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.