0

हर कोई शहर में

किसी रोज़ हंसती थी वादियाँ,
मेरे छोटे से गांव में,
अब हर कोई शहर में बिक गया हैं,
अपने अपने भाव में….

 

~ Sayquo (Sayali Shinde)

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.