1

कवि तो कवि होते है, Shayari about Kavi

Shayari Poem on Poet, Kavi, Writer

 

कवि तो कवि होते है ।
ये ऐसे बुद्ध जिवी होते है
प्रखर इनकी रचनाओं में शब्दों से रवि होते है।
हैदराबादी, उर्दू, या हिंदी, ये लखनवी होते है ।

 

व्यंग, कविताएं, तंज कसने में,
ये बड़े अनुभवी होते है ।
कागज़ वस्त्र इनके, कलम आभूषण
समाज में साक्षरता की छवि होते है।

 

मै कवि नहीं, और क्या लिखूं ,
कबीर, तुलसीदास, बच्चन, निराला,
संसार में कभी कभी होते है।
कवि तो कवि होते है ।।

 

~ Abhidat Arunkumar Fale

 

Share This

One Comment

  1. Your website is awesome and the poetry level is very high .i like your website

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.