2

विश्व में परचम लहरा रही हिंदी

मन के भावों को जता रही हिंदी।
साहित्यिक दर्शन करा रही हिंदी।
अपनी हिंदी जोड़ती है दिलों को।
विश्व में परचम लहरा रही हिंदी।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.