Inspirational Diwali Poem in Hindi

Spread out the happiness of this Diwali 2018 with our good collection of Inspirational Diwali Poems in Hindi Language. Diwali or Deepavali is also called Diwali is a significant festival and an official holiday in India. While Diwali is popularly known as the “festival of lights”, the most significant spiritual meaning is “the awareness of the inner light”. So here we are providing Happy Diwali Inspirational Poem in Hindi Character for inspire and motivate you that shows the actual meaning of Diwali celebration, Heart Touching Diwali Kavita in Hindi, Deepavali Poetry in Hindi wordings and many more. Wish you Happy Diwali  🙂

 

Short Happy Diwali Poem in Hindi for Diwali Wishes with Greeting

Poem on Diwali in Hindi

 

1) Inspirational Poem on Diwali for Diwali Message

 

 

पर्व है पुरुषार्थ का,
दीप के दिव्यार्थ का,

देहरी पर दीप एक जलता रहे,
अंधकार से युद्ध यह चलता रहे,

हारेगी हर बार अंधियारे की घोर-कालिमा,
जीतेगी जगमग उजियारे की स्वर्ण-लालिमा,

दीप ही ज्योति का प्रथम तीर्थ है,
कायम रहे इसका अर्थ, वरना व्यर्थ है,

आशीषों की मधुर छांव इसे दे दीजिए,
प्रार्थना-शुभकामना हमारी ले लीजिए!!

झिलमिल रोशनी में निवेदित अविरल शुभकामना
आस्था के आलोक में आदरयुक्त मंगल भावना!!!
Shubh Diwali

 

 

Related Article :- Sad Diwali Sms

 

 

2) Beautiful Happy Diwali Poem for Kids

 

दिवाली रोज मनाएं
फूलझड़ी फूल बिखेरे
चकरी चक्कर खाए

अनार उछला आसमान तक
रस्सी-बम धमकाए

सांप की गोली हो गई लम्बी
रेल धागे पर दौड़ लगाए

आग लगाओ रॉकेट को तो
वो दुनिया नाप आए

टिकड़ी के संग छोटे-मोटे
बम बच्चों को भाए

ऐसा लगता है दिवाली
हम तुम रोज मनाएं।

Happy Deepavali 2018

 

 

Updated :-

 

 

3) Happy Diwali Inspirational Poem in Hindi Fonts

है दीप पर्व आने वाला
हमको भी दीप जलाना है
मन के अंदर जो बसा हुआ
सारा अंधियार मिटाना है

हम दीप जला तो लेते हैं
बाहर उजियारा कर लेते
मन का मंदिर सूना रहता
बस रस्म गुजारा कर लेते

इस बार मगर कुछ नया करें
अंतस का दीप जगाना है

बाहर का अंधियार मिटा
फिर भी ये राह अबूझी है
जब तक अंतर्मन दीप बुझा
देवत्व राह अनबूझी है

सद्ज्ञान राह फैलाकर के
सारा मानस चमकाना है
है दीप पर्व आने वाला।

– देवपुत्र

 

4) Motivational Hindi Poem on Diwali 2018

 

जगमग सबकी मने दिवाली,
खुशी उछालें भर-भर थाली।
खील खिलौने और बताशे,
खूब बजाएं बाजे ताशे।
ज्योति-पर्व है,ज्योति जलाएं,
मन के तम को दूर भगाएं।
दीप जलाएं सबके घर पर,
जो नम आँखें उनके घर पर।
हर मन में जब दीप जलेगा,
तभी दिवाली पर्व मनेगा।
खुशियाँ सबके घर-घर बाँटें,
तिमिर कुहासा मन का छाँटें।
धूम धड़ाका खुशी मनाएं,
सभी जगह पर दीप जलाएं।
कोई कोना ऐसा हो ना,
जिसमें जलता दीप दिखे ना।
देखो, ऊपर नभ में थाली,
चन्दा के घर मनी दिवाली।
देखो, ढ़ेरों दीप जले हैं,
नहीं पटाखे वहाँ चले हैं।
कैसी सुन्दर हवा वहाँ है,
बोलो कैसी हवा यहाँ है।
सुनो, पटाखे नहीं चलाएं,
धुआँ, धुन्ध से मुक्ति पाए।

– आनन्द विश्वास

 

Diwali Poems in Hindi

 

5) मोटिवेशनल दिवाली कविता हिंदी में

 

इस साल दिवाली कुछ इस तरह मनाना दोस्तों
नफरत को भुलाकर दीप खुशियों के जलाना दोस्तों।
न रह जाये कोई गम न कोई शिकायत
दीप की दीवारों पर खुशियों के रंग लगाना दोस्तों..।

धनतेरस पर बहुत लिया घर का सामान
इस साल किसी गरीब का घर सजाना दोस्तों..।
भाई बहन के प्यार का भी है ये त्यौहार
भाई दोज पर रूठी बहन को मनाना दोस्तों..।

दूर कर देना अंधेरों को मिटा देना अहंकार को,
दीपक की तरह जगमगाना दोस्तों..।
कुछ इस तरह दिलो को जोड़ना दिलो से
सिर्फ अपनों को नहीं परायों को भी अपना बनाना दोस्तों।

इस साल दिवाली कुछ इस तरह मनाना दोस्तों।

 

6) हैप्पी दीपावली कविता हिंदी में

 

छोड़-छाड़ कर दवेष-भाव को,
मीत प्रीत की रीत निभाओ,
दिवाली के शुभ अवसर पर,
मन से मन का दीप जलाओ।

क्या है तेरा क्या है मेरा,
जीवन चार दिन का फेरा,
दूर कर सको तो कर डालो,
मन का गहन अँधेरा,
निंदा नफरत बुरी आदतों,
से छुटकारा पाओ।

दिवाली के शुभ अवसर पर,
मन से मन का दीप जलाओ।

खूब मिठाई खाओ छक कर,
लड्डू, बर्फी, चमचम, गुझिया
पर पर्यावरण का रखना ध्यान,
बम कहीं न फोड़ें कान
वायु प्रदुषण, धुएं से बचना
रौशनी से घर द्ववार को भरना।

दिवाली के शुभअवसर पर,
मन से मन का दीप जलाओ

चंदा सूरज से दो दीपक,
तन मन से उजियारा कर दें।

हर उपवन से फूल तुम्हारे
जब तक जियो शान से।
हर सुख, हर खुशहाली पाओ,
दिवाली के शुभ अवसर पर,
मन से मन का दीप जलाओ।।

 

 

Click For – न्यू ईयर 2019 शायरी सन्देश

 

 

7) हैप्पी दिवाली पोएम हिंदी में

 

मंगलमय हो आपको दीपों का त्यौहार,
जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार।
ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार,
लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार।।

मुझको जो भी मिलना हो, वह तुमको ही मले दोलत,
तमन्ना मेरे दिल की है, सदा मिलती रहे शोहरत।
सदा मिलती रहे शोहरत, रोशन नाम तेरा हो
कामो का ना तो शाया हो निशा में न अँधेरा हो।।

दिवाली आज आयी है, जलाओ प्रेम के दीपक
जलाओ प्रेम के दीपक, अँधेरा दूर करना है।
दिलों में जो अँधेरा है, उसे हम दूर कर देंगे
मिटा कर के अंधेरों को, दिलो में प्रेम भर देंगे।।

मनाएं हम तरीकें से तो रोशन ये चमन होगा
सारी दुनियां से प्यारा और न्यारा ये वतन होगा।
धरा अपनी, गगन अपना, जो बासी वो भी अपने हैं
हकीकत में वे बदलेंगे, दिलों में जो भी सपने हैं।।

 

Comments

comments