0

कोवीड-19 के बाद टूरिज्म का भविष्य क्या है?

कोरोना का कहर आज पूरे देश क्या पूरी दुनियां को जकड़े हुए है। इस खतरनाक और फैलने वाले वायरस से दिन प्रतिदिन लोग कई लोग इसके शिकार होते जा रहे हैं। पूरी दुनियां में लाखो और भारत में कई हज़ार लोग इससे संक्रमित हो गए हैं। इस वायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है जिस वजह से लोग घरो में रह रहे हैं और पूरा बाज़ार बंद है। इस वायरस का असर सिर्फ लोगो पर नही नही बल्कि देश की आर्थिक स्थिति पर भी पड रहा है।

देश की आर्थिक व्यवस्था में टूरिज्म अर्थात पर्यटन का बहुत बड़ा हाथ रहा है।विगत कई सालो से देश और विदेश से कई लाखो लोग रोज में भारत के कई सुन्दर और प्राकर्तिक छठा लिए हिल स्टेशन पर और ऐतिहासिक महत्व लिए कई शहरो में आते रहे हैं।कोरोना की वजह से ट्रेन्स और इंटरनेशनल फ्लाइट्स बंद है और आगे भी कई समय तक बंद रहेंगे। कुछ महीनो बाद शुरू होने के बाद भी कई शर्तो के साथ शुरू होगा। ऐसे नियम का टूरिस्ट की संख्या पर बुरा असर पड़ेगा।

 

When will start tourism after covid?| कोविड के बाद पर्यटन कब शुरू होगा?

What is the scope of tourism after COVID-19

कोवीड-19 के बाद टूरिज्म का भविष्य क्या है?

 

कोविड के बाद कब टूरिज्म शुरू होगा ये कहना मुश्किल है। ये इस बात पर निर्भर करता है कि कोरोना पर कब काबू पाया जाएगा और कब इसका सटीक इलाज आएगा। जैसे ही इलाज और इससे बचने के लिए वैक्सीन आ जाएगा तब इंसानों का जीवन नार्मल हो जाएगा और टूरिज्म भी फिर से फलने फूलने लगेगा। सही से इलाज आ जाने के बाद भी टूरिज्म को कई शर्तो के साथ शुरू किया जाएगा जिससे टूरिज्म शुरू तो हो जाएगा लेकिन वैसा नही जैसे पहले हुआ करता था। पहले जैसा होने के लिए कई महीनो लग सकते हैं।

 


See – जानिए नौकरियों पर कोरोना का कहर किस तरह होगा


 

Percentage of people (globally) are dependent on international tourism? अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन पर लोगों की निर्भरता (वैश्विक रूप से)

दुनियाभर में कई लोग टूरिज्म पर निर्भर करते है। इसमें चाइना सबसे पहले नंबर पर आता है। चाइना में लगभग 29 मिलियन लोग टूरिज्म से अपना जीवनयापन करते है। इसके बाद भारत का नंबर आता है। यहाँ पर 27।5 मिलियन लोग पर्यटन पर निर्भर करते है। अमेरिका और जर्मनी में कम से कम 3 मिलियन लोग टूरिज्म पर निर्भर करते है।

 

What is the prediction of Tourism in 2020 to 2021?| 2020 से लेकर 2021 में पर्यटन की क्या भविष्यवाणी है?

कोरोना की वजह से शिक्षण स्थल, सिनेमाघर, माल्स और कई पर्यटन स्थल बंद है। इस कोरोना के कहर की वजह से भारत के कम से कम 50 स्मारक और 3691 पर्यटन स्थल बंद है।भारत में कई हिल स्टेशन, कई विशाल और पुराने मंदिर, चर्च और मस्जिद हैं जहाँ पर लाखो की तादात में पर्यटक आते रहे हैं लेकिन कोविड के बाद ये काफी कम हो जाएगा।

सरकार द्वारा विदेशो से आए पर्यटकों के लिए नियम बहुत कठिन हो जाएंगे ताकि देश में फिर से बाहर से कोरोना वायरस न आ सके और देश पर फिर से मुसीबत का सबब न बन जाए। इन कठिन नियमो की वजह से कम टूरिस्ट भारत में आना चाहेगा।

लोगो में कोरोना के वायरस का डर कई महीनो और हो सकता है सालो तक रहे। इस डर की वजह से लोग किसी दूसरे देश में जाने से डरेंगे, खासकर परिवार वाले लोग। विदेशो से टूरिस्ट की संख्या की कमी को दूर करने में बहुत समय लग जाएगा,यहाँ तक की देश के लोग भी किसी दूसरे शहर जाने का रिस्क काफी समय तक उठाना पसंद नही करेंगे।

टूरिज्म की वजह से कई होटल्स की कमाई होती थी जिस पर इसका बहुत बुरा असर पड़ेगा। हो सकता है उन्हें अपने रेगुलर रेट्स से कम पर होटल के कमरे देने पड़ेंगे ताकि लोग हिल स्टेशन पर आए और उनके होटल्स पर रुके।

 

कोरोना का टूरिज्म अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा बुरा असर

कोरोना की वजह से पर्यटन स्थलों में हजारो लोगो का रोजगार छिन गया है जैसे गाइड, दुकानदार और रिक्शा और टैक्सी चलाने वाले। आगरा और दिल्ली जैसे शहरों में कई हज़ारो गाइड्स है जो पहले रोज में कुछ हज़ार कमा लेते थे लेकिन अब वो बेरोजगार है और आने वाले समय में भी उनके कमाने के मौके बहुत कम हो सकते है क्योकि टूरिस्ट की संख्या में भरी गिरावट जरुर आएगी।

राजस्थान जैसे ऐतिहासिक शहरों में महल और किले देखने के लिए कई लोग और सैलानी आते हैं लेकिन लॉकडाउन की वजह से टूरिज्म पर बहुत बुरा असर पड़ा है और ये असर लम्बे समय तक दिख सकता है। राजस्थान में कोरना ने बहुत कहर बरसाया है और वहां पर इससे संक्रमित लोगो की संख्या लगातार बढ़ रही है और इस पर काबू पाने में कई महीनो लग सकते है। काबू पाने के बाद भी लोगो में राजस्थान जाने से सम्बंधित डर बना रहेगा जिससे वहां पर सैलानी और टूरिस्ट कम जाएंगे और टूरिज्म की वजह से कमाई करने वाले होटल्स, गाइड्स और टैक्सी ड्राइवर्स बहुत नुक्सान झेलेंगे।

 

टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए

भविष्य में टूरिज्म के इस नुक्सान को भरने के लिए सरकार को कई कदम उठाने पड़ेंगे जैसे

  • टूरिज्म स्पॉट्स से सम्बंधित आकर्षक ऑफर्स देकर जिसे खूबसूरत हिल स्टेशन पर रोचक एडवेंचर राइड्स और स्पोर्ट्स को बढ़ावा।
  • जीएसटी को कम करके या ख़त्म करके और पर्यटन से जुड़े खर्चो में कमी करके।
  • सभी पर्यटक स्थलों को सैनीटायजर की मदद से समय समय पर वायरस मुक्त करके, ताकि टूरिस्ट लोगो को ये तस्सली हो कि जहाँ वो जा रहे हैं वो वायरस फ्री है।

 


Check – कोरोना का किन किन इंडस्ट्रीज पर पड़ेगा बहुत बुरा असर | जानिए

 

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.