0

तेरा मुस्कराना गज़ब ढा गया

तुम्हारी बातों में दिल आ गया था।
नज़र जब मिली थी मैं शर्मा गया था।
अदाओं ने तेरी, दिल मेरा छीना।
तेरा मुस्कराना गज़ब ढा गया था।

 

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’

 

Share This
0

बीच दरिया मे डूबे तो मर जायेंगे

उनकी नज़रो में हम अगर जो गिर जायेंगे,
कुछ नही दोस्तो हम बिखर जायेंगे।
टूटी कस्ती से दरिया ना पार हुए,
बीच दरिया मे डूबे तो मर जायेंगे।

 

– अमित वर्मा

 

Share This
Page 1 of 164
1 2 3 4 5 6 164