0

तुझे बार-बार इसलिए समझाता हूं

मैं तुझे बार-बार इसलिए समझाता हूँ
ए-मेरे दोस्त..
तुझे टूटा हुआ देखकर मैं खुद भी टूट जाता हुं

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *