Sahi baat hai

जरूरत और चाहत में बहुत फ़र्क है…
कमबख्त़ इसमे तालमेल बिठाते बिठाते ज़िन्दगी गुज़र जाती है !!!!

Comments

comments