2

वोह वादा कर के भूल गए

उम्मीद के दिलकश पनघट पे हम शमा जलाये बैठे हैं
वोह वादा कर के भूल गए और हम आस लगाए बैठे हैं

Comments

comments

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *