0

रूह के घाव

रूह के घाव भरे नहीं और तुम जिस्म पे मरहम लगाते हो
हैं जो दरमियान दर्द, उसे छू के तुम हाथ क्यों जलाते हो

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *