1

अल्फ़ाज़ और ख़ामोशी

अल्फ़ाज़ सिर्फ चुभते है
और
ख़ामोशी मार देती है ।

 

~ ज़ेरिक

Comments

comments

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *