Insaan aur Samundra Ki Ekdum Sachi Baat

“समुद्र बड़ा होकर भी,
अपनी हद में रहता है,
जबकि इन्सान छोटा होकर भी
अपनी हद भूल जाता है…!!!”

Comments

comments