0

कुछ मज़बूरी थी, जो हर कदम कांटो पर चल गए

कुछ इम्तिहानो को, कुछ जुबानो को, बंद आँखों से सह गए वो
ना कमजोरी थी, ना ही जी हुजूरी थी
बस कुछ मज़बूरी थी जो अपना हर कदम कांटो पर चल गए वो

Long Tareef Shayari on Beautiful Eyes of A Girl

समंदर से भी गहरी है,
मेरे यार की आँखें….!!

नदियों से भी लहरी है,
मेरे दिलदार की आँखे,

खो जाता हूँ इन नैन में,
जो फूल सी सुन्दर है
मेरे प्यार की आँखे..!!

कभी उठता हूँ, कभी गिरता हूँ
जाम से भी नशीली है,
मेरे जाने बहार की आँखे.

जल जाता हूँ इन बहारों में,
ज्वाला मुखी से भी तेज़ है,
मेरे दिलबहार की आँखे….!

डूब जाता हूँ इन नज़रों मैं,
ऐसी है मेरे तलबदार की आँखे

Aalam Dil ki bebasi ka, Dard aankho ki nami ka

कैसे बयान करे आलम दिल की बेबसी का,
वो क्या समझे दर्द आंखों की नमी का..
ऊनके चाहने वाले ईतने हो गये की…..
उन्हे एहसास नहीं हमारी कमी का……