Motivating Being Human Poem for Indians

ना मुसलमान खतरे में है,
ना हिन्दू खतरे में है
धर्म और मज़हब से बँटता
इंसान खतरे में है।।

ना राम खतरे में है,
ना रहमान खतरे में है
सियासत की भेट चढ़ता
भाईचारा खतरे में है।।

ना कुरआन खतरे में है,
ना गीता खतरे में है
नफरत की दलीलों से
इन किताबो का ज्ञान खतरे में है।।

ना मस्जिद खतरे में है,
ना मंदिर खतरे में है
सत्ता के लालची हाथो,
इन दीवारो की बुनियाद खतरे में है।।

ना ईद खतरे में है,
ना दिवाली खतरे में है
गैर मुल्कों की नज़र लगी है,
हमारा सदभाव खतरे में है।।

धर्म और मज़हब का चश्मा
उतार कर देखो दोस्तों
अब तो हमारा
हिन्दुस्तान खतरे में है |

एक बनो, नेक बनो
ना हिन्दू बनो ना मुसलमान बनो,
अरे पहले ढंग से इंसान तो बनो।।

Desh Bhakti Poems on Republic Day 2018

Na thi kisi ki himmat koi aankh na dikhata tha
Ab kaha chali gyi hain humari androoni shakti

Gila sikhwa dur kar prem ka ban chalana hoga
Yahi pegaam hume pahuchana hoga basto basti

Hume humare desh ko wahi esthan dilana hoga
Humare mein hi hain humare desh ki shakti….

Hum mein hi hain humare rashtra ki shakti…..
Humari desh bhakti hi hain humari shakti…….