Beautiful Dil Shayari on Khwab aur Hakikat

मैं फ़रमाईश हूँ उसकी,
वो इबादत है मेरी,

इतनी आसानी से कैसे
निकाल दू उसे अपने दिल से,

मैं ख्वाब हूँ उसका,
वो हकीकत है मेरी……

Comments

comments